४. मौलाना रूमी और उनका उर्दू काव्य: ले० श्री जगदीश चन्द्र वाचस्पति।By using a garbage issue like that you’ll get garbage answers, such as: You’re not prepared, you don’t contain the ability established, it’s your ton in everyday life.… Read More


when am meditating all I’m looking at is gray, fuzzy and white dots or lines and shapes within the blackness. I actually struggle to find out colors Other than a similar unexciting transferring fuzzy yellow blobs coming in the direction of me like automobile lights. I tried to visualise an onion And that i saw the shape and outlines but no colour… Read More


उस आदमी ने कहा, "ऐसा लज्जाशील था तो उस दुराचारी आदमी को क्यों नहीं मार डाला?"इन सबके ज़िम्मेदार #आतंकी #धर्म के लोग ह..[यही दशा मनुष्य की है… Read More


वह स्त्री बोली, "मेरे पीछे मेरी एक दासी है। मुझसे भी अधिक सुन्दरी है। जब तू उसे देखेगा तो बड़ा खुश होगा। देख यह सामने से चली आ रही है।"प्र… Read More


हवा में बीते हुए वक़्त की गंध थी। गंध बढ़ने लगी तो मुझे लगा, होम्स नज़दीक आ रहा है। यह वही 'मुरथली' की राख की गंध थी जो पुरवा चलती तो हमारे स्क… Read More